Poetry

मनमीत मेरे हरगिज…

It's only fair to share...Share on facebook
Facebook
Share on google
Google
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email
Share on linkedin
Linkedin

मनमीत मेरे हरगिज होना कहीं न घायल

कहीं धूप की तपन है कहीं नीर भरे बादल।

सैलाब वक्त का है मज़बूर ज़िन्दगानी।

दरिया की रवानी है, आँखों में भरा पानी।

कहीं मौत का सन्नाटा, कहीं बज रही है पायल।

                        मनमीत मेरे हरगिज…..

दौलत की चाहतों में नीलाम फर्ज होता।

है बाढ़ कहीं धन की, कहीं बोझ कर्ज ढोता।

बरगद के बृक्ष  नीचे हरगिज न हो दबायल।

                        मनमीत मेरे हरगिज…..

अंधी दौड़ में दौड़ा है जा रहा जमाना।

है हर बशर नशे में, क्या होश का ठिकाना।

इस अर्थ युग में शब्दों का तार-तार आँचल।।

                        मनमीत मेरे हरगिज…..

ग़ुस्ताख निगाहों में ये अक्स उभरते हैं।

सपनों के शीशमहल पे पत्थर क्यों उछलते हैं।

क्या चाहते दरिन्दे क्यों हो गए हैं पागल।

                        मनमीत मेरे हरगिज…..

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hello world.
Login
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker